Home भीलवाड़ा आईपीई ग्लोबल द्वारा सामुदायिक सहभागिता के सहयोग से किया गया मूल्यांकन- टास्क...

आईपीई ग्लोबल द्वारा सामुदायिक सहभागिता के सहयोग से किया गया मूल्यांकन- टास्क फोर्स समिति की बैठक सम्पन्न

संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर पर फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी करने वाले को किया गिरफ्तार व निलंबित

आईपीई ग्लोबल द्वारा सामुदायिक सहभागिता के सहयोग से किया गया मूल्यांकन-
टास्क फोर्स समिति की बैठक सम्पन्न।
भीलवाडा, 08 अप्रैल। आईपीई ग्लोबल विकास क्षेत्र की सलाहकार बहुराष्ट्रीय संस्था है जो कि विभिन्न देशों और भारत के कई राज्यों के साथ मिलकर सकारात्मक बदलाव लाने की दिशा में कार्य कर रही है। राजस्थान में उड़ान परियोजना के अन्तर्गत किशोरी गर्भावस्था को रोकने के लिये 360 डिग्री दृष्टिकोण के साथ क्रियान्वयन कर रही है। उड़ान परियोजना त्रिस्तरीय रणनीति के अन्तर्गत षिक्षा विभाग के साथ मिलकर बालिकाओं को माध्यमिक विद्यालयों में नामाकंन करवाना एवं उनकी षिक्षा को सतत बनाये रखना, षिक्षा एवं स्वास्थ्य विभाग के मिलकर किषोरियों में यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य के प्रति ज्ञान, रवैया और आचरण में सुधार लाने एवं स्वास्थ्य विभाग के साथ कार्य करते हुए विभिन्न गर्भनिरोधक माध्यमों की पहुँच महिलाओं तक सुनिष्चित करने हेतु कार्य कर रही है।

उड़ान परियोजना के अन्तर्गत भीलवाड़ा जिले के बालिका षिक्षा, बाल विवाह, एवं किषोर गर्भावस्था को लेकर जिले के पाँच ब्लाॅक-माण्डल, सुवाना, शाहपुरा, बिजौलिया एवं बनेड़ा के चयनित गाँवों में विभिन्न माध्यमों जिसमें माता-पिता, प्रभुत्वषाली व्यक्तियों, पंचायत प्रतिनिधियों, किषोरियों, युवाओं आदि से बातचीत कर इन मुद्दों का मूल्यांकन किया गया तथा मूल्यांकन का विष्लेषण कर रिपोर्ट तैयार की गई।

आईपीई ग्लोबल की जिला छात्रवृŸिा मित्र इमराना खानम द्वारा सामुदायिक सहभागिता के सहयोग से किये गये मुल्यांकन एवं मूल्यांकन के परिणामों एवं उन परिणामों के आधार पर गाँव में परिवर्तन लाने हेतु एक 16 सदस्यीय टास्क फोर्स समिति का गाँव स्तर पर गठन किया गया।

चयनित समस्त ग्रामों में टास्क फोर्स समिति की बैठक का आयोजन किया गया जिसमें सामुदायिक सहभागिता के सहयोग से किये गये मूल्यांकन एवं परिणामों को साझा किया गया।

बैठक के अंत में निष्कर्ष निकला कि यदि सामुदायिक सहभागिता के सहयोग से समय-समय पर मूल्यांकन कर इन मुद्दों पर चर्चा हो एवं निगरानी रखी जाये तो बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने, बाल विवाह को रोकने एव किशोर गर्भावस्था को कम किया जा सकता है।
बैठक में उड़ान परियोजना से गोविंद सिंह एवं राजदीप सिंह ने भी अपने-अपने विचार रखें एवं सभी का आभार व्यक्त किया।

NO COMMENTS