previous arrow
next arrow
Slider
Home न्यूज़ राष्ट्रीय देसी कोरोना वैक्‍सीन का फेज 3 ट्रायल शुरू, अगले महीने इमर्जेंसी यूज...

देसी कोरोना वैक्‍सीन का फेज 3 ट्रायल शुरू, अगले महीने इमर्जेंसी यूज में आ सकता है मॉडर्ना का टीका

कोविड वैक्सीन को लेकर दो अच्‍छी खबरें है। भारत में बनी देसी कोरोना वैक्सीन Covaxin का ट्रायल भी अंतिम दौर में पहुंच गया है। तीसरे और अंतिम ट्रायल शुरू हो चुका है। जानकारी के अनुसार इस ट्रायल के दौरान लोगों को दो डोज दी जाएगी। देश के 22 अस्पतालों में तीसरे फेज का ट्रायल शुरू किया गया है। दिल्ली में एम्स के अलावा जीटीबी अस्पताल में यह ट्रायल होगा। इसके अलावा रोहतक पीजीआई, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, फरीदाबाद ईएसआईसी अस्पताल सहित कई बड़े अस्पताल शामिल हैं। दूसरी तरफ, अमेरिकी फार्मा कंपनी मॉडर्ना ने सोमवार को दावा किया कि उसकी वैक्सीन मजबूत सुरक्षा उपलब्ध कराती है। बताया गया है कि यह घातक कोरोना वायरस के खिलाफ 94.5 प्रतिशत प्रभावी साबित हुई है।

वालंटियर्स को म‍िलेंगी Covaxin की दो डोज

-covaxin-

जिन लोगों को कोरोना वायरस की यह वैक्सीन दी जाएगी, उनके दो अलग-अलग ग्रुप बनाए गए हैं। एक ग्रुप में शामिल लोगों को वैक्सीन दी जाएगी, जबकि दूसरे ग्रुप के लोगों को वैक्सीन की तरह नॉर्मल लिक्विड (प्‍लेसीबो) दिया जाएगा। ट्रायल में शामिल लोगों की इसकी जानकारी नहीं दी जाएगी कि उन्‍हें क्‍या दिया गया है। आईसीमएआर के पुणे स्थित एनआईवी लैब के वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस को सबसे पहले आइसोलेट किया था, उसके बाद भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन नामक यह वैक्सीन तैयार की है।

शुरुआती ट्रायल में 90% तक म‍िलीं एंटीबॉडी

-90-

पहले और दूसरे फेज के ट्रायल सफल होने के बाद Covaxin का यह तीसरा ट्रायल किया जा रहा है। जिससे वैक्सीन आने की उम्मीदें बढ़ गई हैं। पहले और दूसरे फेज के ट्रायल में वैक्सीन कितनी कारगर है, इसको जांचा जाता है। साथ में इसके रिएक्शन का भी ध्यान रखा जाता है। अब तक दोनों फेज के ट्रायल सफल रहे हैं, जिसके बाद तीसरे और फाइनल फेज के ट्रायल की अनुमति मिली है। जानकारी के अनुसार अब तक एक हजार लोगों पर वैक्सीन का ट्रायल किया जा चुका है। कंपनी के अनुसार वैक्सीन दिए गए लोगों में 90 पर्सेंट तक एंटीबॉडी पाया गया है। अब तीसरे फेज के ट्रायल में 18 साल से ऊपर के लोगों को शामिल किया गया है।

मॉडर्ना वैक्‍सीन को दिसंबर तक इमर्जेंसी यूज की मिल सकती है मंजूरी

दूसरी तरफ, मॉडर्ना वैक्सीन की डिलीवरी शुरू किए जाने से पहले अभी और सेफ्टी डेटा की जरूरत पड़ेगी। सेफ्टी डेटा सामने आने के बाद अगर इसे मंजूरी मिल जाती है तो अमेरिका में दिसंबर तक दो कोरोना वैक्सीन का इमर्जेंसी इस्तेमाल किया जा सकता है। मॉडर्ना ने करीब 30 हजार वॉलंटियर्स पर क्लीनिकल ट्रायल पूरा करने के बाद इसके 94 फीसदी से ज्यादा प्रभावी होने की प्रतिक्रिया दी है। मॉडर्ना के सीईओ स्टीफेन बैंसेल ने कहा, तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल के अध्ययन से हमें पॉजिटिव नतीजे मिले हैं और हमारी वैक्सीन कई गंभीर बीमारियों के साथ कोविड-19 वैक्सीन को रोकने में कारगर साबित हो सकती है।

ये वैक्‍सीन हैं रेस में सबसे आगे

मॉडर्ना, फाइजर के साथ ऑक्सफर्ड-एस्ट्राजेनेका भी वैक्सीन बनाने की दौड़ में सबसे आगे हैं। वहीं भारत में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया, भारत बायोटेक के साथ कई कंपनियां कोरोना के टीके के विकास में भी जुटी हुई हैं। सीरम इंस्टिट्यूट देश में ऑक्सफर्ड-एस्ट्राजेनेका के टीके का ट्रायल कर रहा है।

Most Popular

ट्रेक्टर अनियंत्रित होकर पलटा चार घायल

भीलवाड़ा। ज़िले के बदनोर थाना क्षेत्र के पास एक बाइक सवार को बचाने के चक्कर मे एक ट्रेक्टर अनियंत्रित होकर पलट गया। इस हादसे...

मीनाक्षी के समर्थन में उमड़ी भीड़

भीलवाड़ा जिला परिषद वार्ड नंबर 6 से लड़ रही है चुनाव ✍️राकेश मीणा  भीलवाड़ा@ शुक्रवार को भीलवाड़ा जिला परिषद के होने वाले चुनाव में वार्ड नंबर...

मिशन शक्ति के अंतर्गत महाविद्यालय की छात्राओं को सिखाये सुरक्षा के गुण

मिशन शक्ति के अंतर्गत महाविद्यालय की छात्राओं को सिखाये सुरक्षा के गुण अरुण कुमार केशकर फतेहपुर 27 नवम्बर: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा महिलाओं...

सीसवाली में करवाओ महिला चिकित्सक नियुक्त-मनीषा

सीसवाली में करवाओ महिला चिकित्सक नियुक्त-मनीषा फ़िरोज़ खान सीसवाली 27 नवंबर। नगर महिला कांग्रेस कमेटी की ओर से सीसवाली सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में महिला चिकित्सक नियुक्त...
We would like to show you notifications for the latest news and updates.
Dismiss
Allow Notifications