previous arrow
next arrow
Slider
Home न्यूज़ अन्तराष्ट्रीय भारत-अमेरिकी टू-प्लस-टू वार्ता के बाद बौखलाया चीन, भारत के साथ सीमा गतिरोध...

भारत-अमेरिकी टू-प्लस-टू वार्ता के बाद बौखलाया चीन, भारत के साथ सीमा गतिरोध को द्विपक्षीय मुद्दा बताया

बीजिंग: चीन ने बुधवार को कहा कि भारत के साथ पूर्वी लद्दाख में उसका सीमा गतिरोध एक द्विपक्षीय मुद्दा है तथा अमेरिका को अपनी हिन्द-प्रशांत रणनीति को ‘‘रोकना’’ चाहिए क्योंकि यह क्षेत्र में अमेरिका का प्रभुत्व थोपने का प्रयास है.

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ के आश्वासन के बाद आई चीन की ओर से टिप्पणीः
चीन के विदेश मंत्रालय की यह टिप्पणी अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ द्वारा भारत को यह आश्वासन दिए जाने के एक दिन बाद आई है कि नयी दिल्ली की संप्रभुता के समक्ष उत्पन्न चुनौतियों से निपटने में अमेरिका भारत के साथ मजबूती से खड़ा है. पोम्पिओ की यह टिप्पणी नयी दिल्ली में तीसरे भारत-अमेरिका संवाद के बाद आई जिसमें दोनों पक्षों ने भारत-चीन सीमा विवाद और हिन्द-प्रशांत क्षेत्र की स्थिति पर प्रमुखता से चर्चा की.

चीनी विदेश मंत्रालय ने बताया- चीन-भारत के बीच सीमा संबंधी मसले को दो देशों के बीच का मामलाः
भारत के साथ मजबूत रक्षा संबंधों के अमेरिका के प्रयोजन पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने बुधवार को यहां संवाददाताओं से कहा कि चीन और भारत के बीच सीमा संबंधी मामले दो देशों के बीच के मामले हैं. उन्होंने गतिरोध के समाधान के लिए भारत और चीन के बीच सैन्य तथा कूटनीतिक स्तर की वार्ता के संदर्भ में कहा कि सीमा पर स्थिति अब सामान्य तौर पर स्थिर है और दोनों पक्ष प्रासंगिक मुद्दों का वार्ता एवं चर्चा के जरिए समाधान कर रहे हैं.

पोम्पिओ ने कहा था कि भारत की संप्रभुता के समक्ष उत्पन्न चुनौतियों से निपटने में अमेरिका मजबूती से खड़ा हैः
चीन की तीखी निन्दा करते हुए पोम्पिओ ने गलवान घाटी में 20 भारतीय जवानों के बलिदान का उल्लेख किया था और कहा था कि भारत की संप्रभुता के समक्ष उत्पन्न चुनौतियों से निपटने में अमेरिका मजबूती से नयी दिल्ली के साथ खड़ा है. पोम्पिओ ने कल यह भी कहा था कि हमारे नेता और नागरिक स्पष्ट तौर पर यह मानते हैं कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) लोकतंत्र, पारदर्शिता के कानून के शासन की पक्षधर नहीं है. मैं यह कहने में प्रसन्नता महसूस करता हूं कि अमेरिका और भारत न सिर्फ चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की ओर से उत्पन्न खतरों, बल्कि सभी तरह के खतरों से निपटने के लिए हमारे सहयोग को मजबूत करने के लिए कदम उठा रहे हैं.

वांग ने की अमेरिका की हिन्द-प्रशांत अवधारणा की निन्दाः
वांग ने अमेरिका की हिन्द-प्रशांत अवधारणा की निन्दा की और कहा कि अमेरिका द्वारा प्रस्तावित हिन्द-प्रशांत रणनीति गुजर चुकी शीतयुद्ध मानसिकता और टकराव तथा भू-राजनीतिक खेल का प्रचार कर रही है. यह अमेरिका का प्रभुत्व थोपने पर केंद्रित है. यह क्षेत्र के साझा हितों के विपरीत है और हम अमेरिका से इसे रोकने का आग्रह करते हैं. उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय विकास के लिए कोई भी अवधारणा शांतिपूर्ण विकास और सभी को लाभ प्रदान करनेवाले सहयोग के लिए समय के अनुरूप होनी चाहिए.

Most Popular

गहलोत का सीएम पद बचाया, तो क्या बेलगाम हो गए समर्थक मंत्री और कांग्रेसी विधायक !

जयपुर । राजस्थान में अशोक गहलोत ने अपना मुख्यमंत्री पद क्या बचाया, पद बचाने के बाद से गहलोत समर्थक मंत्री और कांग्रेसी विधायक बेलगाम हो...

कृषि बिल कानून : प्रियंका गांधी बोली- किसानों से सब कुछ छीना जा रहा है और पूंजीपतियों को सबकुछ बेचा जा रहा है

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को हरियाणा पुलिस द्वारा शंभू सीमा पर आंदोलनकारी पंजाब के किसानों को तितर-बितर करने के लिए...

देव दीपावली पर वाराणसी जा सकते हैं PM मोदी

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 30 नवंबर को 'देव दीपावली' के लिए अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी का दौरा कर सकते हैं। इस अवसर पर वह वाराणसी...

वैश्विक महामारी कोरोना कोविड-19 का बिजनेस पर प्रभाव

समय मनुष्य का मित्र और शत्रु दोनों ही है । अपनी मित्रता और शत्रुता का परिचय समय ने वैश्विक महामारी कोरोना कोविड-19 में लॉक-डाउन...