previous arrow
next arrow
Slider
Home राज्य मध्यप्रदेश सांवरिया थारा नाम हजार, कैसे लिखु कुंकू पत्री.. बांकेबिहारी मन्दिर पाटोत्सव में...

सांवरिया थारा नाम हजार, कैसे लिखु कुंकू पत्री.. बांकेबिहारी मन्दिर पाटोत्सव में बही भजन सरिता

ब्यावर। सूरजपोल गेट बाहर स्थित बांकेबिहारी मंदिर का 54 वाँ पाटोत्सव महोत्सव सुबह 9 बजे ध्वजारोहण के साथ प्रारम्भ हुआ,मंदिर ट्रस्ट के सदस्यों एवं उत्सव समिति के सभी सदस्यों ने सपरिवार पूजा अर्चना करके मंदिर के मुख्य शिखर पर ध्वजारोहण किया तत्पश्चात विद्वत विप्रजनों विप्रजनों ने विष्णु सहस्रनाम एवं गोपाल सहस्त्र नाम पाठ के साथ गृभगृह में ठाकुरजी का पंचामृत अभिषेक किया,ठाकुरजी के चल विग्रह को मंदिर प्रांगण में विराजमान करके भक्तो ने भी अभिषेक का पुण्य प्राप्त किया इस अवसर पर अध्यक्ष माणक डाणी ट्रस्ट के कांतिलाल ड़ाणी,अतुल बंसल,सुरेश रायपूरियां,महेंद्र सलेमबादी उत्सव समिति के विजय तंवर,महेश सिंघल,लक्ष्मीप्रकास,श्यामसुंदर अग्रवाल उपस्थित थे। दोपहर 11 बजे ठाकुरजी की युगल छवि को सुनहरी पोशाक के साथ नख से सिक तक स्वर्णाभूषणों से श्रृंगारीत किया किया ठाकुरजी की अनुपम छवि के दर्शन करके भक्तजन भावविभोर हो गये। दोपहर 3 बजे अग्र ज्योति मंडल की महिला सदस्या उषा सिंघल,कृष्णा सिंघल,अनिता सर्राफ,सीमा गर्ग,स्वाति गर्ग,कविता बुधिया, ममता गर्ग,पुष्पा डाणी,अनिता सर्राफ,इंद्रा गोयल,हेमलता गर्ग,दीपिका मंगल,ममता फतेहपुरिया एवं समता गोयल ने प्रभु बाँके बिहारीजी के समक्ष नाना प्रकार के खाधान्न एवं पेय प्रदार्थों का भोग लगाया। के. सुदामा मंडल के भागचंद चौहान, सतीश गर्ग,सुनील गर्ग व विजय शर्मा ने गणेश वंदना आज घणे ही चाव से थाने बुलावा गणेश.. हम तुम्हारे है प्रभुजी.. सांवरिया थारा नाम हजार, कैसे लिखु कुंकू पत्री.. कितना प्यारा है श्रृंगार, बांस की बाँसुरिया पर घनो  इतरावे.. जैसे अनेक सुमधुर भक्ति भाव से भरे भजनों की प्रस्तुति दी। पाटोत्सव के अवसर पर सम्पूर्ण मन्दिर परिसर को रंग बिरंगी पताकाओं,चुंदड़ी एवं लहरियां वस्त्रो एवं पुष्पों से सजाया गया।


Source link

Most Popular