सेंसेक्स ने संवत वर्ष 2076 का 11 प्रतिशत बढ़त के साथ किया समापन, बैंक शेयरों में रही तेजी

कोरोना वायरस के टीके के सफल परीक्षण से बाजार में उछाल, सेंसेक्स 195 अंक चढ़ा, निफ्टी लाभ में 12,900 अंक के ऊपर बंद

मुंबई: वैश्विक बाजारों की घट-बढ़ के बीच घरेलू शेयर बाजारों में बैंकिंग व वित्तीय शेयरों में सुधार रहा. इससे एक दिन की गिरावट के बाद शुक्रवार को घरेलू शेयर बाजार पुन: बढ़त दर्ज करने में कामयाब रहे. इसके साथ ही घरेलू शेयर बाजार ने संवत वर्ष 2076 का समापन वृद्धि के साथ किया.

सेंसेक्स 85 तो निफ्टी में भी 29 अंकों की बढ़तः
बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 85.81 अंक यानी 0.20 प्रतिशत मजबूत होकर 43,443 अंक पर बंद हुआ. इसी तरह एएनएसई का निफ्टी भी 29.15 अंक यानी 0.23 प्रतिशत की बढ़त के साथ 12,719.95 अंक पर पहुंच गया. दोनों ही सूचकांक में हिंदू कैलेंडर संवत वर्ष 2076 का समापन अच्छी-खासी बढ़त के साथ हुआ. पूरे वर्ष के दौरान सेंसेक्स 4,384.94 अंक यानी 11.22 प्रतिशत और निफ्टी में 1,136.05 अंक यानी 9.80 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई. संवत 2077 की शुरुआत के मौके पर शनिवार को दीपावली के दिन शाम को एक घंटे का विशेष मुहूर्त कारोबार होगा.

सेंसेक्स शेयरों में बजाज फिनसर्व के शेरय रहे सर्वाधिकः
सेंसेक्स में शामिल कंपनियों में बजाज फिनसर्व सर्वाधिक 3.32 प्रतिशत ऊंचा रहा. इसके अलावा टाटा स्टील, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, बजाज फाइनेंस, भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) और अल्ट्राटेक सीमेंट के शेयर भी बढ़त में रहे.
दूसरी ओर एलएंडटी, एचडीएफसी, एचडीएफसी बैंक, टेक महिंद्रा, भारती एयरटेल, महिंद्रा एंड महिंद्रा और टीसीएस के शेयर 2.04 प्रतिशत तक की गिरावट में रहे.
सप्ताह के दौरान सेंसेक्स 1,549.94 अंक यानी 3.69 प्रतिशत और निफ्टी 456.40 अंक यानी 3.72 प्रतिशत ऊंचा रहा.

कोविड-19 के टीके के विकास, अमेरिकी चुनाव परिणाम और विदेशी निवेश के कारण रही बाजार में गतिः
जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के अनुसंधान प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि कोविड-19 के टीके के विकास, अमेरिकी चुनाव परिणाम और विदेशी निवेश जैसी सकारात्मक खबरों द्वारा संचालित सप्ताह के दौरान बाजार ने अपनी गति को बनाए रखा है. इसके अलावा कंपनियों के बेहतर तिमाही परिणाम और आत्मनिर्भर भारत 3.0 ने भी बाजार को मजबूत किया. रिलायंस सिक्योरिटीज के संस्थागत व्यवसाय के प्रमुख अर्जुन यश महाजन ने कहा कि वित्तीय क्षेत्र के चुनिंदा शेयरों में सुधार रहा. इससे घरेलू शेयर बाजार शुरुआती नुकसान से उबरने में कामयाब रहे. उन्होंने कहा कि एफएमसीजी को छोड़ शेष सभी समूहों के सूचकांक बढ़त में रहे. धातु और दवा कंपनियों के शेयरों में ठीक ठाक तेजी देखी गई. हालांकि यूरोप और अमेरिका में कोरोना वायरस महामारी के मामले बढ़ने से निवेशकों में चिंता रही. टीके को लेकर स्पष्टता के साथ ही दूसरी तिमाही में कंपनियों के ठोस प्रदर्शन और आत्मनिर्भर भारत 3.0 के तहत अतिरिक्त आर्थिक राहत उपायों ने घरेलू शेयर बाजारों को समर्थन दिया.

कच्चे तेल का अंतरराष्ट्रीय मानक ब्रेंट क्रूड 0.69 प्रतिशत गिरकर 43.23 डॉलर प्रति बैरल पर आयाः
बीएसई सूचकांक समूहों में धातु, रियल्टी, स्वास्थ्य एवं चिकित्सा, बेसिक मटीरियल्स, बैंकिंग और ऊर्जा सूचकांक 1.94 प्रतिशत तक की बढ़त में रहे. पूंजीगत वस्तुओं, दूरसंचार, एफएमसीजी और इंडस्ट्रियल्स समूहों में गिरावट रही. बीएसई का मिडकैप और स्मॉलकैप 1.12 प्रतिशत तक बढ़त में रहा. एशियाई बाजारों में चीन का शंघाई कंपोजिट, हांगकांग का हैंगसेंग और जापान के निक्की गिरावट में रहे. दक्षिण कोरिया का कोस्पी बढ़त में रहा. वहीं, शुरुआती कारोबार में ज्यादातर यूरोपीय बाजार बढ़त में चल रहे थे. इस बीच कच्चे तेल का अंतरराष्ट्रीय मानक ब्रेंट क्रूड 0.69 प्रतिशत गिरकर 43.23 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. वहीं, शुक्रवार को रुपया 74.62 प्रति डॉलर के स्तर पर लगभग स्थिर बंद हुआ.

हमारें अन्य चेनल देखने के लिए निचे दिए वाक्यों पर क्लिक करे
वीडयो चेनल, भीलवाड़ा समाचार,  सभी समाचारों के साथ नवीनतम जानकारियाँ , राष्ट्रीय खबरों के साथ जानकारियाँ, स्थानीय, धर्म, नवीनतम |