70 वर्षीय बुजुर्ग ने जिला कलेक्टर से मांगी इच्छा मृत्यु की स्वीकृति

रायपुर | गोपाल मेघवंशी
पीड़ित बालू सिंह पिता मोहन सिंह राजपूत निवासी कलाल खेड़ी बोराणा तहसील रायपुर जिला भीलवाड़ा ने जिला कलेक्टर भीलवाड़ा को रिपोर्ट देकर निवेदन किया कि स्थानीय भू माफियाओं व स्थानीय प्रशासन से परेशान होकर वह मरना चाहता है पीड़ित ने बताया कि वह एक सीनियर सिटीजन होकर पटवार हल्का बोराणा ग्राम कलाल खेड़ी में उसकी खातेदारी भूमि है जिसका खसरा नंबर 350 है जो उसके नाम पर 40 वर्षों से रिकॉर्ड में दर्ज है उस पर स्थानीय भूमाफिया मिश्री लाल कलाल प्यार चंद्र कलाल गणपत लाल कलाल जीवा कलाल भंवर सिंह बहादुर सिंह सभी निवासी कलाल खेड़ी पुलिस थाना रायपुर मेरी खातेदारी भूमि पर जबरन अतिक्रमण पर रास्ता निकाल दिया जबकि भेरुजी ग्राम बाड़ी में जाने वाला रिकॉर्ड में दर्ज गेमु रास्ता है जिसके खसरा नंबर 350 311 है उस पर उक्त भूमाफियो द्वारा अतिक्रमण कर कब्जा कर रखा है उसके बावजूद भी भूमाफिया स्थानीय तहसीलदार व पटवारी से मिलीभगत करके उसको 6 वर्षों से परेशान कर रहे हैं जबकि पीड़ित ने न्यायालय सहायक जिला कलेक्टर उपखंड कार्यालय रायपुर में वाद दायर किया जिसका मुकदमा नंबर 128 है उसको लेकर न्यायालय ने दिनांक 14 अक्टुम्बर 2020 को पीड़ित के पक्ष में निर्णय दिया परंतु प्रशासन द्वारा खातेदारी भूमि से अतिक्रमण नहीं हटाया तो आम जन समस्या समाधान कमेटी राजस्थान से संपर्क किया तब प्रशासन ने दिनांक 23 जुन 2021 को अतिक्रमण हटाया परंतु स्थानीय भूमाफिया मिश्री लाल कलाल वार्ड पंच होने के नाते अपने पद का दुरुपयोग करते हुए उक्त सभी भू माफियो को आगे करते हुए तहसीलदार रायपुर पटवारी बोराणा से मिलीभगत कर गलत तथ्यों से रिपोर्ट पेश करवा कर सहायक जिला कलेक्टर उपखंड कार्यालय रायपुर में एक आवेदन पेश करके उसकी खातेदारी भुमि में दिनांक 2 जुलाई 2021 को स्थगन आदेश करवा दिया उसके बाद सभी भू माफिया मिश्रीलाल कलाल प्यार चंद्र कलाल गणपत लाल कलाल आये दिन मेरे परिवार को जान से मारने की नियत से घर पर आ जाते हैं जान से मारने की धमकियां देते हुए अभद्र गाली गलौज करते हैं जिससे उसके और उसका परिवार अकेला होने के कारण काफी परेशान है प्रशासन राजनीतिक दबाव में आकर पीड़ित के खेत पर पुलिस जाप्ते के साथ आ जाता है और रिकॉर्ड में दर्ज गेमु रास्ता होने के बावजूद भी जबरन उसकी खातेदारी भूमि में अतिक्रमण करवा रहा है पीड़ित के पुत्र भगवान सिंह पर दबाव बनाकर हस्ताक्षर भी करवा लिए जिससे वह काफी परेशान होकर इस दुनिया में नहीं जीना चाहता क्योंकि वह 6 वर्षों से स्थानीय भूमाफिया व स्थानीय प्रशासन से परेशान है जबकि उक्त भू माफियाओं के पास कई बीघा सरकारी भूमि कब्जे में है इनका पूरे गांव में आतंक फैला हुआ है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here