previous arrow
next arrow
Slider
Home भीलवाड़ा महेंद्रगढ़ तालाब रोड़ स्थित बाड़े में लगी भीषण आग, 20 ट्रोली चारा...

महेंद्रगढ़ तालाब रोड़ स्थित बाड़े में लगी भीषण आग, 20 ट्रोली चारा व खाखला जलकर राख 

बागोर :- विष्णु विवेक शर्मा

एक तरफ जहां देश दुनिया में आज ही के दिन पुलवामा में शहीद हुए जवानों कि बरसी पर गांवो गांवो में लोग श्रद्धांजलि देने में लगे हुए थे वही दूसरी तरफ महेंद्रगढ़ गांव में गाडरी मोहल्ला स्थित एक बाड़े में अचानक लगी भीषण आग से ग्रामीण दहशत में आ गए । आग की लपटे और धुंआ उठता देख मोहल्लेवासी व ग्रामीण मौके पर आग बुजाने पहुँचे । इधर पंचायत समिति सदस्य व पूर्व सरपंच महेंद्रगढ़ रामधन सोमाणी ने कारोई पुलिस व भीलवाड़ा अग्निशमन विभाग को सूचना देकर बिजली विभाग को भी सूचित करते हुए तुरन्त थ्री फेज विद्युत सप्लाई चालू करवाई । जिससे बाड़े के आसपास ही लगे 2 ट्यूबवेल से पानी के टैंकर मंगवाए जिससे ग्रामीण आग बुजाने लगे । फिर भी रह रहकर धुंआ उठता रहा इतने में भीलवाड़ा से अग्निशमन विभाग से दमकल भी मौके पर आ गई । जिसकी व ग्रामीणों की सहायता से आग पर पूर्णतः काबू पाया जा सका । तब तक दो घण्टे में करीबन 20 ट्रोली सूखा चारा व खाखला जलकर राख हो गया।
वर्तमान पंचायत समिति सदस्य व पूर्व सरपंच महेंद्रगढ़ रामधन सोमाणी ने बताया कि यहां गाडरी मोहल्ले से तालाब जाने वाले मार्ग पर बने महेंद्रगढ़ निवासी भैरु लाल पिता बरदा गाडरी के बाड़े में दोपहर बाद टिन शेड के नीचे रखे सूखे चारे व खाखले में अचानक आग लग गई । जिसकी सूचना लगते ही ग्रामीण मौके पर आग बुजाने दौड़ पड़े । इधर सूचना पर आमली से पटवारी सुरेंद्र सिंह भी मौके पर पहुँचे । कुछ ही समय बाद कारोई पुलिस भी मौके पर पहुँच गई । जिसनें ग्रामीणों की मदद से नजदीक ही खुदे ट्यूबवेल से पानी के 4 टैंकर भरकर मंगवाए जिससे ग्रामीणों ने पुलिस की मौजूदगी में आग बुजाने के अथक प्रयास जारी रखे लेकिन सूखा चारा होने से आग की लपटें और उसमें से रह रहकर धुंआ उठता रहा । कुछ ही समय बाद भीलवाड़ा से दमकल भी आ पहुँची जिससे ग्रामीणों की मदद के साथ दमकल कर्मियों ने पानी की बौछारें करके करीबन दो घण्टे बाद आग पर पूर्णतः काबू पाया ।
तब तक करीबन दो घण्टे
में 15 ट्रोली सूखा चारा व 5 ट्रोली खाखला जलकर राख हो गया वही बाड़े में लोहे के चद्दर से बना रखे टिन शेड के 15 चद्दर भी टूट गए । जिसके नुकसान का जायजा लेकर मौके पर मौजूद पटवारी सुरेंद्र सिंह ने मौका पर्चा भी बनाया ।
इधर गनीमत यह रही कि बाड़े में बंधी दो गायों को ग्रामीणों ने आते ही खोलकर बाड़े से बाहर निकाल दिया था वरना पशुधन की हानि से इनकार नही किया जा सकता था । फिलहाल आग लगने के कारणों का पता नही चल पाया हैं।

Most Popular