भारतीय राजनीति के शिखर पुरुष स्वतंत्रता सेनानी बाबू जगजीवन राम की पुण्यतिथि मनाई

भारतीय राजनीति के शिखर पुरुष स्वतंत्रता सेनानी बाबू जगजीवन राम की पुण्यतिथि मनाई

देश की प्रथम महिला बैरिस्टर कार्नेलिया सोराबजी को भी किया नमन

सुमेर सिंह राव

सूरजगढ़। आदर्श समाज समिति इंडिया के तत्वावधान में गाँधी कृषि फार्म सूरजगढ़ में दलितों के मसीहा देश के प्रथम श्रम मंत्री, संविधान सभा के सदस्य, निजी विमान कंपनियों का राष्ट्रीयकरण कर वायु सेना निगम, एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस की स्थापना करने वाले संचार मंत्री आधुनिक भारत के निर्माता, हरित क्रांति के प्रणेता पूर्व कृषि मंत्री, भारत-पाकिस्तान युद्ध 1971 की ऐतिहासिक जीत के हीरो तत्कालीन रक्षा मंत्री, भारतीय रेल को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाने वाले रेल मंत्री, प्रथम दलित उप प्रधानमंत्री, महान स्वतंत्रता सेनानी बाबू जगजीवन राम की पुण्यतिथि मनाई। इस मौके पर देश की प्रथम महिला बैरिस्टर कार्नेलिया सोराबजी को भी उनकी पुण्यतिथि पर याद किया। आदर्श समाज समिति इंडिया के अध्यक्ष धर्मपाल गांधी ने बताया कि आजादी से बहुत पहले ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में कानून की पढ़ाई करने वाली कार्नेलिया सोराबजी ब्रिटेन और हिंदुस्तान में कानून का अभ्यास करने वाली पहली महिला थी। वो मुंबई विश्वविद्यालय से स्नातक करने वाली पहली महिला भी थी। उनके अथक प्रयासों से ही महिलाओं को वकालत करने का अधिकार मिला।
स्वाधीनता आंदोलन और आधुनिक भारत के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले देश के महान राजनेता बाबू जगजीवन राम के जीवन संघर्ष को याद करते हुए गांधी ने बताया कि भारतीय राजनीति के क्षितिज पर छाने वाले बाबू जगजीवन राम का भारत में संसदीय लोकतंत्र के विकास में विशेष योगदान है। 50 वर्षों के संसदीय जीवन में उनका राष्ट्र के प्रति समर्पण और निष्ठा बेमिसाल है। उनका संपूर्ण जीवन राजनीतिक, सामाजिक सक्रियता व विशिष्ट उपलब्धियों से भरा हुआ है। सदियों से शोषण और उत्पीड़ित दलितों, मजदूरों के मूलभूत अधिकारों की रक्षा के लिए बाबू जगजीवन राम द्वारा किए गए कानूनी प्रावधान ऐतिहासिक हैं। जगजीवन राम का ऐसा व्यक्तित्व था जिसने कभी भी अन्याय से समझौता नहीं किया और दलितों के सम्मान के लिए संघर्षरत रहे। विद्यार्थी जीवन से ही उन्होंने अन्याय के प्रति आवाज उठाई। अपराजित निडर ईमानदार राजनेता बाबू जगजीवन राम के जीवन से वर्तमान के राजनेताओं को कुछ सीखना चाहिए। बाबू जी ने सदैव निडरतापूर्वक अन्याय का सामना किया एवं साहस, इमानदारी, ज्ञान व अपने अमूल्य अनुभव से सदैव देश की भलाई की। वे स्वतंत्र भारत के उन महान नेताओं में से एक थे जिन्होंने आधुनिक भारत का निर्माण किया। सही मायने में बाबू जगजीवन राम भारत रत्न थे।
इस मौके पर आदर्श समाज समिति इंडिया के अध्यक्ष धर्मपाल गाँधी, चाँदकौर, सुनीता, सुनील गांधी, सुमन, दिनेश कुमार, सोनू कुमारी, अमित कुमार, पिंकी नारनोलिया, अंजू गांधी, लक्ष्य, लक्षिता, माहिर गाँधी, शुभम आदि अन्य लोग मौजूद रहे।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here