मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का जन्मदिन आज, कोरोना के चलते BIRTHDAY नहीं मनाने का लिया निर्णय

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का बड़ा निर्णय, जल संसाधन विभाग के 1500 वर्क चार्ज कार्मिक हो सकेंगे प्रमोट

जयपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आज 70 वां जन्मदिन है. मुख्यमंत्री गहलोत ने कोरोना संकट के चलते जन्मदिन नहीं मनाने का निर्णय लिया है. सीएम गहलोत ने प्रदेशवासियों से भी आग्रह किया है कि इस मौके पर कोई आयोजन नहीं हो बल्कि कोविड प्रोटोकॉल का पालन कर नागरिक व्यवस्थाओं को बनाने में सहयोग अदा करें. लेकिन जनता ने एक दिन पहले ही सीएम गहलोत को जन्मदिन का तोहफा दे दिया.

जनता ने जन्मदिन से पूर्व ही दिया तोहफा:
प्रदेश में विधानसभा की 3 सीटों के उपचुनाव के नतीजे में 2 सीटों पर कांग्रेस ने कब्जा जमाया हैं. जनता ने सीएम गहलोत को जन्मदिन से पहले ही तोहफा दे दिया. आपको बता दें कि कोविड-19 के इस मुश्किल दौर में राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत लगातार नागरिकों सेवा में जुटे हुए हैं. वैसे तो हर साल मुख्यमंत्री गहलोत का जन्मदिन पूरे प्रदेशभर में धूमधाम से मनाया जाता हैं. लेकिन इस बार कोरोना संकट के चलते मुख्यमंत्री गहलोत ने जन्मदिन नहीं मनाने का निर्णय किया हैं.

सीएम गहलोत ने लिया जन्मदिन नहीं मनाने का निर्णय:
सीएम अशोक ने ट्वीट कर लिखा, ‘देश-प्रदेश में कोविड-19 की बनी हुई परिस्थिति से हम सभी अवगत हैं. कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार के कारण पूरा प्रदेश मुश्किल दौर से गुजर रहा है. कोविड-19 वैश्विक महामारी के प्रकोप के कारण 3 मई (सोमवार) को जन्मदिन नहीं मनाने का निर्णय किया है. राजस्थान की जनता ने मुझे हमेशा ही भरपूर स्नेह और आशीर्वाद दिया है. यही मेरी पूंजी है. जिनके परिजन इस घातक कोरोना के शिकार हुए हैं मेरे पास शब्द नहीं हैं उनके प्रति संवेदना व्यक्त करने के लिए, संकट की घड़ी में, मैं स्वयं एवं पूरी राज्य सरकार जनता के साथ खड़ी है. मुझे पूर्ण विश्वास है कि इस वैश्विक आपदा से निपटने में आगे भी सभी का सहयोग यूंही मिलता रहेगा.

जोधपुर में 3 मई 1951 को हुआ था सीएम गहलोत का जन्म:
आपको बता दें कि सीएम गहलोत का जन्म 3 मई 1951 को जोधपुर में हुआ था. गहलोत पिछले पांच दशकों से राजनीति में मजबूती से डटे हैं. उनकी प्रतिभा का लोहा पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने तक माना. सीएम गहलोत राजीव, सोनिया और राहुल गांधी के पसंदीदा नेता बने. तीन बार केंद्रीय मंत्री के साथ मुख्यमंत्री के रूप में सफल तीसरा कार्यकाल जारी हैं. गांधीजी के मार्गों पर चलने के कारण लोग भी उन्हें ‘राजस्थान के गांधी’ के नाम से पुकारते हैं. स्पष्ट नीती और स्वच्छ राजनीति के कारण प्रदेशावासियों के दिल में गहलोत का अलग स्थान हैं.

फोन और वर्चुअल माध्यम से ही दे रहे शुभकामनाएं:
गहलोत के 70वें जन्मदिन पर लोग स्वास्थ्य और खुशहाली की कामना कर रहे हैं, विधायक और मंत्री भी फोन और वर्चुअल माध्यम से ही शुभकामनाएं दे रहे. लाखों कार्यकर्ता व प्रशंसक फेसबुक व ट्विटर के माध्यम से बधाइयां दे रहे हैं. जहां 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए अच्छे नतीजे नहीं रहे. इस बीच गहलोत के नेतृत्व में राजस्थान में उपचुनाव में कांग्रेस ने 2 सीटें जीती, हालांकि गहलोत के ‘प्यारो राजस्थान’ में कोरोना संकट के कारण जश्न नहीं मनाएंगे. कोरोना काल में गहलोत पक्ष-विपक्ष के नेताओं को भी साथ लेकर चल रहे हैं. कोरोना वायरस को लेकर भाजपा नेताओं को दिल्ली में राजस्थान के लिए आवाज उठाने के लिए कहा.