previous arrow
next arrow
Slider
Home न्यूज़ राष्ट्रीय हरियाणा: CM खट्टर के किसान महापंचायत कार्यक्रम स्थल पर प्रदर्शनकारियों ने की...

हरियाणा: CM खट्टर के किसान महापंचायत कार्यक्रम स्थल पर प्रदर्शनकारियों ने की तोड़फोड़, अस्थायी हेलीपेड का नियंत्रण भी अपने हाथ में लिया

चंडीगढ़ः हरियाणा के करनाल जिले के कैमला गांव में प्रदर्शनकारी किसानों ने आज किसान महापंचायत के कार्यक्रम स्थल पर तोड़फोड़ कर दी है. गौरतलब है कि यहां मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर लोगों को केंद्र के तीन कृषि कानूनों के फायदे बताने वाले थे. इससे पहले पुलिस ने कैमला गांव की ओर किसानों के मार्च को रोकने लिए उन पर पानी की बौछारें कीं और आंसू गैस के गोले छोड़े थे. बहरहाल प्रदर्शनकारी कार्यक्रम स्थल तक पहुंचकर और किसान महापंचायत कार्यक्रम को बाधित किया है.

उन्होंने मंच को क्षतिग्रस्त कर दिया है. इतना ही नहीं प्रदर्शनकारियों ने कुर्सियां, मेज और गमले तोड़ दिए है. किसानों ने अस्थायी हेलीपेड का नियंत्रण भी अपने हाथ में ले लिया है, जहां मुख्यमंत्री का हेलीकॉप्टर उतरना था. भाजपा नेता रमण मल्लिक ने बताया है कि बीकेयू नेता गुरनाम सिंह चरूनी के कहने पर किसानों के हुड़दंगी व्यवहार के कारण कार्यक्रम को रद्द कर दिया गया है. पुलिस ने गांव में मुख्यमंत्री की यात्रा के मद्देनजर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए थे.

इस गांव में खट्टर लोगों को केंद्र के तीन कृषि कानूनों के फायदे बताएंगे. भारतीय किसान यूनियन (चरूनी) के तत्वावधान में किसानों ने पहले घोषणा की थी कि वे किसान महापंचायत का विरोध करेंगे. वे तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं. किसान काले झंडे लिए हुए थे और भाजपा नीत सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कैमला गांव की ओर मार्च करने की कोशिश कर रहे थे. पुलिस ने गांव के प्रवेश स्थानों पर बैरीकेड लगा दिए ताकि वे कार्यक्रम स्थल तक नहीं पहुंच पाएं.

स्थिति तब तनावपूर्ण हो गई जब किसान इस बात पर अड़ गए कि वे मुख्यमंत्री को कार्यक्रम नहीं करने देंगे. पुलिसकर्मी प्रदर्शनकारी किसानों को शांत करने की कोशिश करते दिखाई दिए लेकिन वे मंच पर कब्जा करने के लिए आगे बढ़ गए थे. एक प्रदर्शनकारी ने बताया है कि हम सरकार को ये कार्यक्रम नहीं करने देंगे. कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने किसानों पर पानी की बौछारें छोड़ने और आंसू गैस के गोले दगवाने के लिए मुख्यमंत्री खट्टर की आलोचना की है.

Most Popular