अन्तर्राष्ट्रीय न्याय दिवस के अवसर पर बेटियों को जन्म देने वाली प्रसूता महिलाओं का किया समान

रमेश रामावत

झुंझुनूं | जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव दीक्षा सूद व महिला अधिकारिता विभाग, झुंझुनूं के संयुक्त तत्वावधान में आज अन्तर्राष्ट्रीय न्याय दिवस, नारी सुरक्षा, सम्मान एवं गौरव ,नालसा व रालसा की स्कीमों, बाल विवाह रोकथाम, श्रम कानून, नषा मुक्ति, एंटी रैगिंग, साक्षी संरक्षण, षिक्षा का अधिकार, सपोर्ट टू सर्वाइवर व आदि विषयों पर राजकीय बी.डी.के. चिकित्सालय में जागरूकता शिविर का अयोजन किया गया। कार्यक्रम में महिला अधिकारिता विभाग के उपनिदेशक विप्लव न्यौला व जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव दीक्षा सूद द्वारा ‘‘बेटी बचाओं-बेटी पढ़ाओं’’ विषय की तर्ज पर बेटियों को जन्म देने वाली नव प्रसूताओं व नवजात बच्चियों को बेबी किट, शॉल व मिठाई देकर उनका सम्मान किया गया। इस अवसर पर पीएमओ डॉ वी डी बाजिया सहित अस्पताल के चिकित्सा कर्मचारी भी मौजूद रहे। सचिव दीक्षा सूद ने कार्यक्रम के दौरान बताया कि आज अन्तर्राष्ट्रीय न्याय दिवस के अवसर पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा महिलाओं के सुरक्षा सम्मान व गौरव विषय को बढ़ावा देते हुए महिला अधिकारिता विभाग के साथ मिलकर यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है। सचिव दीक्षा सूद ने बताया कि बी.डी.के अस्पताल के जनाना वार्ड के निरीक्षण करने पर यह सामने आया कि यहां नवप्रसूताओ व गर्भवती महिलाओं के उच्च तकनीकी से लैस उपकरणों व नवीन तकनीकी ज्ञाता स्टाफ की नियुक्ति की गयी है ताकि प्रत्येक गर्भवती व प्रसूता को बेहतर ईलाज व एक अच्छा वातावरण मिल सके। इस संबंध में विप्लव न्यौला ने बताया कि महिला अधिकारिता विभाग महिलाओं की स्थिति को सुधारने व उनको समाज में एक बेहतर स्थान दिलाने हेतु अग्रसर है जिसमें जिला विधिक सेवा प्राधिकरण का भी महत्वपूर्ण योगदान रहा है । इसी के साथ सचिव सूद ने सखी वन स्टॉप सेन्टर का भी निरीक्षण किया गया वहां पर रह रही एक महिला की काउंसलिंग की गयी व महिला को त्वरित सुविधाएं उपलब्ध करवाने हेतु वन स्टॉप के कर्मचारियों को कहा गया। इसी के साथ सचिव सूद द्वारा नालसा व रालसा की विभिन्न स्कीमों, बाल विवाह रोकथाम अभियान, कोविड-19 वैक्सीनेषन जागरूकता व कोविड-19 रोकथाम जागरूकता, श्रम कानून, नषा मुक्ति, एंटी रैगिंग, साक्षी संरक्षण, षिक्षा का अधिकार, जनउपयोगी सेवाओं, सपोर्ट टू सर्वाइवर आदि विषयों की भी जानकारी दी गयी। माननीय नालसा व रालसा द्वारा जनहित में जारी स्कीमों का मुख्य उद्देष्य पीड़ित अथवा जरूरतमंद व्यक्ति समय पर विधिक सहायता व जानकारी प्रदान करना है ताकि कोई भी व्यक्ति न्याय से वंचित ना रह सके। इसी के साथ ‘‘न्याय सबके लिए’’ की अवधारणा पर भी खरा उतरना है। इस अवसर पर प्राधिकरण सचिव दीक्षा सूद ने कहा कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण नालसा व रालसा की स्कीमों के क्रियान्वयन के साथ ही वर्तमान में फेली महामारी में आगे बढ़कर आमजन की मदद कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here