previous arrow
next arrow
Slider
Home भीलवाड़ा कल्याण कामी पुरुष को अर्थनामधारी अनर्थ को दूर से ही छोड देना...

कल्याण कामी पुरुष को अर्थनामधारी अनर्थ को दूर से ही छोड देना चाहिए -स्वामी योगेश्वरानन्द

स्मार्ट हलचल, आसींद। संवाददाता- कृष्ण गोपाल शर्मा

हरी शेवा उदासीन आश्रम सनातन मंदिर भीलवाड़ा में महामंडलेश्वर स्वामी हंसराम उदासीन के सानिध्य में मंडल पूजन, रुद्राभिषेक, हवन यज्ञ, विभिन्न स्तोत्र के पाठ, श्रीमद् भागवत मूल पाठ पारायण, धार्मिक और आध्यात्मिक अनुष्ठान हो रहे हैं।
प्रातःकालीन कथासत्र में पाक्षिक महाशक्ति लीला कथा के बारहवें दिन की कथा का वाचन और प्रवचन करते हुए व्यासपीठ से कथा-प्रवक्ता स्वामी योगेश्वरानन्द जी महाराज ने कहा कि भगवती दुर्गा सनातनधर्म की आधारस् तम्भ हैं। मनुष्य, देव या दानव जब सनातन धर्म को त्याग कर अमर्यादित या अवैदिक जीवन प्रारम्भ करता है तो भगवती दुर्गा प्राकृतिक सन्तुलन बनाकर वेद दर्शित सनातनधर्म की स्थापना करती हैं। भगवती की लीला कथाओं में नारी शक्ति के सशक्तीकरण और आदर्श चरित्र की प्रतिष्ठा की गई है। नारी शक्ति के द्वारा आसुरी और राक्षसी वृत्तियों को ठीक वैसे ही नियन्त्रित किया जा सकता है जैसे भगवती दुर्गा ने मधु-कैटभ, महिषासुर और शुम्भ-निशुम्भ आदि राक्षसों का संहार कर दिया। आरती में महामंडलेश्वर स्वामी हंसराम उदासीन, संत मयाराम, संत राजाराम, संत गोविंदराम एवं श्रद्धालु गण उपस्थित रहे।

संध्या कालीन सत्र में श्रीमद्भागवत महापुराण कथा के 41वे दिन की कथा का वाचन करते हुए
व्यासपीठ से कथा-प्रवक्ता स्वामी योगेश्वरानन्द जी महाराज श्री कल्याण सेवा आश्रम, अमरकण्टक, मध्य प्रदेश ने कहा कि अर्थ जहाँ एक ओर हमारे भौतिक जीवन के निर्वाह का महत्त्वपूर्ण साधन है वहीं दूसरी ओर अर्थ ही समस्त अनर्थों की जड भी है। उन्होंने बताया कि शास्त्रों ने अर्थ को चोरी, हिंसा, झूठ बोलना, दम्भ, काम, आदि पन्द्रह प्रकार के अपराधों की जड सिद्ध किया है। इसीलिए कल्याण कामी पुरुष को अर्थनामधारी अनर्थ को दूर से ही छोड देना चाहिए। आरती में प्रजापति समाज के राहुल कुमावत, रामप्रसाद कुमावत, दिनेश कुमावत, श्याम मारवाल, रामप्रकाश कुमावत व अन्य ने उपस्थित होकर व्यासपीठ का पूजन अर्चन माल्यार्पण कर आशीर्वाद प्राप्त किया।

रात्रिकालीन सत्र में श्री करुणामई रासलीला मंडल वृंदावन द्वारा रासलीला के तहत श्री कृष्ण के ब्रज में मक्खन चुराने और उखल बंधन की लीला द्वारा वृक्ष के रूप में रह रहे राक्षसों को शाप मुक्त करने की लीला का मंचन किया गया।

कल दिनांक 29/10/2020 गुरुवार को सायं 4:00 से 4:30 तक रामस्नेही संप्रदाय शाहपुरा के पीठाधीश्वर जगतगुरु रामदयाल जी महाराज अपने आशीर्वचन प्रदान करेंगे।

Most Popular

एसएफजे ने प्रदर्शनकारी किसानों के लिए 10 लाख डॉलर की मदद का किया ऐलान, एजेंसियां सतर्क

नई दिल्ली। पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के हजारों किसान दिल्ली के तीन अंतर्राज्यीय सीमा बिंदुओं पर रैली कर रहे हैं, प्रतिबंधित अलगाववादी समूह...

पुस्तकालय अध्यक्षों का किया सम्मान

आसींद। संवाददाता-कृष्ण गोपाल शर्मा आज जिला मुख्यालय से 29 प्रबद्ध पुस्तकालयाध्यक्ष को रामजस सोडानी की स्मृति में प्रशस्ति पत्र दे कर सम्मानित किया, इस अवसर...

किसानों के खिलाफ बरती जा रही ‘क्रूरता’ पर हैरान हैं पंजाबी प्रवासी

चंडीगढ़ । नए कृषि कानूनों के विरोध में राष्ट्रीय राजधानी आ रहे किसानों के शांतिपूर्ण मार्च को रोकने के लिए सुरक्षा बलों द्वारा आंसू गैस...

कोरोना के विरूद्ध जनांदोलनः कोरोना बचाव  हेतु पर निकाली जनजागरूकता साईकल रैली, किया आयुर्वेदिक काढ़ा एवं मास्क का वितरण

कोरोना के विरूद्ध जनांदोलनः कोरोना बचाव  हेतु पर निकाली जनजागरूकता साईकल रैली, किया आयुर्वेदिक काढ़ा एवं मास्क का वितरण भीलवाड़ा 29 नवम्बर/ कोरोना संक्रमण से बचाव एवं...
We would like to show you notifications for the latest news and updates.
Dismiss
Allow Notifications