Homeभीलवाड़ाकरंट की चपेट में आई बकरी, बचाने पहुंचा बकरी पालक, दोनों की...

करंट की चपेट में आई बकरी, बचाने पहुंचा बकरी पालक, दोनों की मौके पर ही मौत, एईन को सस्पेंड करने की मांग पर अड़े ग्रामीण, मौके पर ही शव के साथ कर रहे प्रदर्शन

देवली(सीताराम माली).हनुमान नगर थाना क्षेत्र के गाडोली गांव के समीप खेत में से गुजर रही हाईटेंशन लाईन के सपोर्ट वायर को छुने से बकरी चराने गये प्रेम सिंह मीणा की मौत हो गई। प्रेमसिंह की मौत की सूचना मिलते ही मौके पर ग्रामीणों का जमावड़ा लग गया तथा आक्रोशित ग्रामीण विद्युत विभाग के अधिकारियों सहित प्रशासन को मौके पर बुलाने के साथ ही मृतक के परिजनों को पांच लाख रुपये का मुआवजा देने एवं विद्युत विभाग जहाजपुर के सहायक अभियंता को सस्पेंड करने की मांग करते हुए शव को रखकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। घटना की नजाकत को समझते हुए हनुमान नगर थाना प्रभारी मौहम्मद इमरान मय जाप्ते के मौके पर पहुंचे तथा ग्रामीणों से समझाइश की, लेकिन ग्रामीण अपनी मांगों पर अड़े रहे। पुलिस द्वारा उच्चाधिकारियों को अवगत करवाने के बाद जहाजपुर तहसीलदार मुकुंद सिंह, उपखंड अधिकारी धर्मराज गुर्जर, एवीवीएनएल अधीक्षण अभियंता शाहपुरा, जहाजपुर डीएसपी महावीर शर्मा, सहित पटवारी, गिरदावर व गाडोली सरपंच अशोक मीणा, पूर्व प्रधान राम कुमार मीणा, पंचायत समिति सदस्य मोहित मीणा, दिनेश माली, जहाजपुर उप प्रधान रामप्रसाद मीणा, परमेश्वर सोयल, भोपाल सिंह मीणा, प्रभुलाल मीणा मौके पर पहुंचे। इस दौरान ग्रामीणों ने आरोप लगाये कि हाईटेंशन लाईन का सपोर्ट वायर विगत दो वर्षों से पत्थर के बंधा हुआ है तथा पूर्व में भी कई पशुओं की करंट से मौत हो गई है, विद्युत विभाग को सूचना देने के बावजूद कोई कार्यवाही नहीं करने के चलते आज हादसा हुआ है। प्राप्त जानकारी के अनुसार गाडोली के झौंपडियां निवासी प्रेमसिंह पुत्र देवी लाल मीणा उम्र 55 वर्ष बकरियां चराने खेत पर गया हुआ था। खेत में से गुजर रही हाईटेंशन लाइन के सपोर्ट वायर में फैल रहे करंट की चपेट में एक बकरी आ गई। बकरी को तडपता देख प्रेम सिंह मीणा बचाने पहुंचा, प्रेमसिंह बकरी को बचा नहीं सका, लेकिन स्वयं भी करंट की चपेट में आ गया। जिससे मौके पर बकरी व प्रेम सिंह दोनों की मौत हो गई। मौके पर पहुंचे अधिक्षण अभियंता ने विद्युत विभाग की लापरवाही मानते हुए मृतक के परिजनों को विभागीय नियमानुसार पांच लाख रूपये देने एवं बकरी के तीस हजार रूपये देने का लिखित वादा कर दिया, लेकिन ग्रामीण सहायक अभियंता बीआर मालव को सस्पेंड करने की मांग पर अड़े रहे। ग्रामीणों द्वारा देर शाम तक शव नहीं उठाने एवं प्रदर्शन करते रहने के बाद क्षेत्रीय विधायक गोपीचंद मीणा भी मौके पर पहुंचे तथा ग्रामीणों से समझाइश करते रहे, तथा विधायक ने सहायक अभियंता व कनिष्ठ अभियंता को निलंबित करने के लिए ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला से बात की लेकिन समाचार लिखे जाने तक ग्रामीण सहायक अभियंता के निलंबन की मांग पर अडे रहते हुए शव के साथ घटनास्थल पर ही डटे हुए थे।

ad
ad
PlayPause

Most Popular