Homeलाइफस्टाइलजानिए उन पौधों के बारे में जिन्‍हें गुड लक प्‍लांट कहा जाता...

जानिए उन पौधों के बारे में जिन्‍हें गुड लक प्‍लांट कहा जाता है , सौभाग्‍य वृद्धि , आर्थिक स्थिति को बेहतर करते हैं

दीर्घायु और जीवन को बेहतर बनाने के लिए घर में सकारात्मक ऊर्जा का होना बेहद आवश्यक है। आप एक खुश और संतुष्ट जीवन तभी जी सकते हैं जब आप जिस स्थान पर निवास करते हैं, वहां सकारात्मक ऊर्जा का वास हो। सकारात्मक ऊर्जा (Positive energy) की जरूरत हम सभी को महसूस होती है और अपने आसपास सकारात्मकता बनाए रखने के लिए हम कई प्रयास भी करते हैं ताकि हमें पॉजिटिव माहौल मिल सके और सारी नेगेटिविटी हमसे मीलों दूर रहे। क्या आप जानते हैं कि पॉजिटिव माहौल बनाने में पौधे (Plants) भी आपकी मदद कर सकते हैं। हरियाली हमारे मन को भाती भी है और बहुत सुकून भी देती है लेकिन साथ ही साथ ये हरे-भरे पौधे हमारे आसपास के माहौल को खुशनुमा और सकारात्मक बनाने में भी काफी मददगार साबित हो सकते हैं। ऐसे में क्यों ना, आज ऐसे पौधों के बारे में जानें जो आपके घर-ऑफिस के माहौल को सकारात्मक ऊर्जा से भर सकते हैं

घर में सकारात्मकता बनी रहती है

ये पौधे सकारात्मक ऊर्जा देने के साथ डेकोरेशन का भी काम करते हैं। पौधों का चयन आप बहुत सोच-समझ कर करते हैं, लेकिन अपने घर में रखे पौधों में गुलाब, गेंदा, चंपा, चमेली, मोगरा, तुलसी को जरूर शामिल करना चाहिए। यह घर में सकारात्मक ऊर्जा बनाए रखने में बहुत ही मदद करते हैं। घर में इन पौधों को पूर्व व उत्तर दिशा में लगाने चाहिए। इससे घर में सकारात्मकता बनी रहती है। वहीं अगर आप घर की दक्षिण दिशा में पेड़-पौधे लगाते है तो इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा बढ़ते है। इतना ही नही अगर आप घर में सजावट के लिए पौधे लगाना चाहते हैं तो उत्तर या पूर्व दिशा में लगा सकते है। वहीं घर में अगर आप छोटा सा बगीचा बनाना चाहते है तो आप पूर्व, उत्तर या पश्चिम दिशा में बना सकती हैं। वहीं, फूल वाले पौधे या बेल हमेशा उत्तर-पूर्व दिशा में लगानी चाहिए।

चमेलीः चमेली मुख्य रूप से सुंदर फूलों के लिए लगाया जाता है यह पौधा सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करता है और रिश्तों में एक नया जुड़ाव लाने में भी मदद करता है। इसमें एक बहुत ही सुखद सुगंध है जो एक परेशान दिमाग को शांत कर सकती है और ऊर्जा को बढ़ाती है। यदि आप इसे दक्षिण की ओर वाली खिड़की के पास लगाते हैं तो यह पौधा सभी प्रकार की सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करेगा।

मनीप्लांटः घर के वातावरण को खुशनुमा और सकारात्मक बनाने में मनीप्लांट भी काफी सहयोगी साबित होता है। फेंगशुई के अनुसार, इस पौधे को घर में लगाने से माहौल काफी सुखद रहता है क्योंकि सारी नेगेटिविटी घर से बाहर निकल जाती है।

एलोवेराः एलोवेरा से शरीर को मिलने वाले फायदों और सुंदरता को बढ़ाने में इसके योगदान से आप भलीभांति परिचित हैं लेकिन क्या आप ये भी जानते हैं कि एलोवेरा घर से नेगेटिव ऊर्जा को भी दूर कर देता है और जिस तरह इसके इस्तेमाल से आपकी त्वचा में निखार आता है उसी तरह इसे घर में लगाने से आपके घर का माहौल भी सकारात्मक और खुशनुमा बनता जाता है।

तुलसीः प्राचीन काल से ही माना जाता है कि घर में तुलसी का पौधा लगाने से वातावरण पर आध्यात्मिक और उपचार प्रभाव पड़ता है। तुलसी के पौधे को पूर्व या उत्तर दिशा में लगाना चाहिए। वहीं पुरानी परंपरा के अनुसार घर के आंगन में तुलसी का पौधा होना चाहिए। इतना ही नही बाल गोपाल को कभी भी तुलसी के बिना भोग नही लगाना चाहिए। तुलसी के पत्तों का रोज सेवन कर उसे पानी चढ़ाना चाहिए व शाम के समय उनके पास दीपक जलाना चाहिए। इसके साथ ही ये पौधा ऑक्सीजन को छोड़ता है और कार्बन डाइऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड को लेता है। इसे आप अपने घर के उत्तर या उत्तर-पूर्व में रखें। तुलसी को एक महान एंटीऑक्सिडेंट के रूप में भी माना जाता है जो घर में नकारात्मक ऊर्जा को साफ करता है और सकारात्मक ऊर्जा को छोड़ता है।

गुलमेहंदीः सकारात्मक ऊर्जा को ग्रहण करने के लिए शरीर और मन का चुस्त-दुरुस्त होना भी जरुरी होता है और शरीर और मन की थकान को दूर करके ताज़गी लाने का काम गुलमेहन्दी का पौधा बड़ी आसानी से कर देता है। इस पौधे को घर में रखने से अनिद्रा की समस्या भी दूर होती है, मूड फ्रेश हो जाता है और इसकी खुशबू दिमाग को ताज़गी का अहसास कराती है।

लकी बांसः बांस का पौधा स्वास्थ्य के साथ-साथ प्रेम जीवन में भी भाग्य लाता है। आप इसे अपने कमरे के किसी भी कोने में रख सकते हैं जिसमें सौम्य या बहुत कम प्रकाश व्यवस्था है। इसके साथ ही आप इसे कम से कम एक इंच ताजे पानी में डूबा कर रखें। लंबे समय से इस पौधे का उपयोग धन और सौभाग्य के प्रतीक के रूप में किया जाता रहा है। बम्बू ट्री को सेहत, भाग्य और प्यार भरा माहौल बनाये रखने के लिए अपने घर के अंदर लगाया जाता है। इस छोटे से बम्बू ट्री को ज़्यादा रखरखाव की जरुरत भी नहीं पड़ती है। इसे किसी भी कांच के बर्तन में थोड़ा पानी डालकर रख लें और इसे कमरे के उस कोने में रखें जहां सूरज की हल्की किरणें आती हों। इसके अलावा ये ध्यान रखना भी ज़रूरी है कि अगर आपके घर में कुत्ते या बिल्ली हैं तो ये पौधा उनके लिए विषैला हो सकता है इसलिए इसे उनकी पहुंच से दूर रखें।


  • सकारात्मक ऊर्जा वाले पौधे: घर में कौन सा पौधा लगाये
  • तुलसी
  •  जेड प्लांट
  •  बैंबू प्लांट
  • मनी प्लांट
  • एरिका पाम
  • रबर प्लांट
  •  कॉर्न प्लांट
  • लैवेंडर
  • यूकेलिप्टस
  • स्नेक प्लांट
  •  गोल्डन पोथोस
  •  पीपल बोन्साई
  •  जिनसेंग फिकस
  • साइट्रस पेड़
  •  एडेनियम
  • पिचर प्लांट

घर में कौन से फूल लगाने चाहिए

  • पीस लिली
  •  चमेली या मोगरा (जैस्मीन)
  •  ऑर्किड
  • कमल
  •  गेंदे का फूल
  •  पेओनी (रंग बिरंगे फूलों वाला पौधा)
  • घर के लिए गुड लक फूल #7: गुलदाउदी
  •  अड़हुल
  • गुलाब
  • चंपा

  • घर के लिए शुभ पौधे: भाग्यशाली जड़ी–बूटी

पुदीना

सेज

अजवाइन

अदरक

थाइम (अजवाइन की एक प्रजाति)

तेजपत्ता

लेमन बाम


शुभ फलदायक पौधे: घर के लिए शुभ वृक्ष

  • नीम
  •  केला
  •  नारियल
  • अशोक का पेड़
  • कटहल
  •  आंवला

    पादप वास्तु शास्त्र में प्रत्येक दिशा का महत्व

    पूर्व (सबसे शुभ)

    वास्तु में पौधों के लिए पूर्व दिशा को सबसे शुभ दिशा माना जाता है। यह सूर्योदय, नई शुरुआत और विकास का प्रतिनिधित्व करता है।

    अनुशंसित पौधे: छोटे से मध्यम आकार के गोल पत्तों वाले पौधे, जैसे कि जेड प्लांट, तुलसी (पवित्र तुलसी), स्नेक प्लांट (कुछ व्याख्याओं में) और मनी प्लांट (कुछ व्याख्याओं में) अच्छे स्वास्थ्य, समृद्धि और सकारात्मक ऊर्जा लाने वाले माने जाते हैं।

    उत्तर (कुछ पौधों के लिए उपयुक्त)

    उत्तर दिशा वायु तत्व और बुध ग्रह से जुड़ी है। इसे आमतौर पर फूलदार पौधों, रंग-बिरंगे पत्तों वाले पौधों और फल देने वाले पौधों के लिए उपयुक्त माना जाता है।

    अनुशंसित पौधे: हालांकि उत्तर दिशा में कुछ फूल वाले पौधों को लगाने को प्रोत्साहित किया जाता है, लेकिन अधिक पौधे, विशेषकर बड़े पौधे, इस दिशा में संतुलन को बिगाड़ सकते हैं।

    पूर्वोत्तर (अत्यधिक लाभकारी)

    वनस्पति वास्तु शास्त्र में उत्तर-पूर्व दिशा को बगीचे या बड़े पौधे लगाने के लिए सबसे लाभकारी क्षेत्र माना जाता है। यह आध्यात्मिक विकास और सकारात्मक ऊर्जा से जुड़ा हुआ है।

    अनुशंसित पौधे: लाभकारी या आध्यात्मिक महत्व वाले पौधे जैसे तुलसी, केले के पेड़ (कुछ व्याख्याओं में) या विभिन्न औषधीय जड़ी-बूटियाँ इस दिशा में विशेष रूप से शुभ मानी जाती हैं।

    दक्षिण (सामान्यतः हतोत्साहित)

    दक्षिण दिशा पर मंगल का शासन है, जो अग्नि और आक्रामकता का ग्रह है। वास्तु के अनुसार, दक्षिण दिशा में पौधे लगाने से नकारात्मक ऊर्जा और संघर्ष हो सकता है। हालांकि, कुछ व्याख्याएं सुरक्षा के लिए यहां कुछ कांटेदार या एलोवेरा के पौधे रखने का सुझाव देती हैं (विशेष जानकारी के लिए वास्तु विशेषज्ञ से सलाह लें)।

    पश्चिम (सीमित विकल्प)

    पश्चिम दिशा वायु तत्व और शुक्र ग्रह से जुड़ी है। अस्त होते सूर्य से इसका संबंध होने के कारण, यह अधिकांश पौधों के लिए आदर्श नहीं है। हालांकि, कुछ सूखा प्रतिरोधी या वायु-शुद्धिकरण करने वाले पौधे जैसे स्पाइडर प्लांट या कुछ कैक्टस अनुमेय हो सकते हैं (विशेष जानकारी के लिए वास्तु विशेषज्ञ से परामर्श लें)।

    दक्षिण-पूर्व (अत्यधिक लाभकारी)

    दक्षिण-पूर्व दिशा अग्नि तत्व और शुक्र ग्रह से जुड़ी है, जो विकास, समृद्धि और सकारात्मक ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करती है। माना जाता है कि इन प्रतीकात्मक गुणों वाले पौधे इस क्षेत्र में सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को बढ़ाते हैं।

    अनुशंसित पौधे: दक्षिण-पूर्व कोने में जेड पौधे (जिन्हें कई संस्कृतियों में मनी ट्री के रूप में जाना जाता है), मनी प्लांट (अपने गोल, सिक्के के आकार के पत्तों के साथ) और ऊपर की ओर बढ़ने वाले पैटर्न वाले अन्य पौधे पनपते हैं , जिनके बारे में माना जाता है कि वे सफलता और कल्याण को प्रोत्साहित करते हैं।

    दक्षिणपश्चिम (निराश)

    प्लांट वास्तु शास्त्र वास्तव में दक्षिण-पश्चिम दिशा में पौधे लगाने की मनाही करता है, जो पृथ्वी तत्व और स्थिरता से जुड़ा हुआ है। पौधे, अपनी निरंतर वृद्धि और जीवन ऊर्जा के साथ, इस स्थिरता को बाधित कर सकते हैं।

    उत्तरपश्चिम (अनुकूल)

    वायु तत्व और शुक्र ग्रह द्वारा शासित यह क्षेत्र स्थिरता और ग्राउंडिंग से जुड़ा हुआ है। माना जाता है कि यहां पौधे लगाना फायदेमंद होता है क्योंकि वे इस संतुलित वातावरण में पनपते हैं और सकारात्मक ऊर्जा प्रवाह में योगदान करते हैं।

    अनुशंसित पौधे: यहाँ, मजबूत जड़ प्रणाली वाले बड़े, पत्तेदार पौधों को प्रोत्साहित किया जाता है। नीम के पेड़ , जो अपने औषधीय गुणों के लिए जाने जाते हैं, इस दिशा में विशेष रूप से पसंद किए जाते हैं। अन्य लाभकारी विकल्पों में चमेली या गुलाब की झाड़ियों जैसे सुगंधित फूल वाले पौधे शामिल हैं।

RELATED ARTICLES