योगिनी एकादशी पर व्रत रखकर भगवान विष्णु की पूजा अर्चना के बाद सुनी कथा

योगिनी एकादशी पर व्रत रखकर भगवान विष्णु की पूजा अर्चना के बाद सुनी कथा

लोकेश कुमार गुप्ता

चाकसू (स्मार्ट हलचल) आषाढ़ कृष्ण पक्ष की एकादशी सोमवार को योगिनी एकादशी के रुप में मनाई गई।
महिलाओं ने एकादशी का व्रत रखा , कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए देवालयों में पहुंच कर ठण्डे पानी के कलश , श्रतु फल एवं पीले पुष्प अर्पित कर भगवान विष्णु की विधि-विधान पूर्वक पूजा-अर्चना की। तहसील कार्यालय के सामने स्थित
श्रीराम मंदिर में पुजारी पंडित विष्णु शर्मा एवं रामबाबू शर्मा ने श्रीजी का मंत्रोच्चार के साथ पंचामृत अभिषेक कर नविन पौषाक धारण करवाई। पुष्प मालाओं से भव्य श्रंगार कर ,महा आरती के बाद भोग लगाकर प्रसाद वितरित किया। इस अवसर पर उपस्थित महिलाओं ने भगवान विष्णु की पूरी श्रद्धा एवं भक्ति के साथ पूजा-अर्चना की। इस अवसर पर पंडित विष्णु शर्मा ने योगिनी एकादशी के माहात्म्य के बारे में विस्तार से बताया एवं प्रेरक कथा सुनाई।
पंडित विष्णु शर्मा ने बताया कि योगिनी एकादशी का महत्व तीनों लोकों में माना गया है। एकादशी पर व्रत रखने से मनुष्य को परिवार में सुख समृद्धि एवं अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है। भगवान की आराधना एवं
संकीर्तन करने के साथ ही भक्तों ने भारत को कोरोना महामारी से मुक्ति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here