previous arrow
next arrow
Slider
Home भीलवाड़ा नही करें प्रतिबंधित मांझे का इस्तेमाल निषेधाज्ञा के समय पतंगबाजी पर प्रतिबंध

नही करें प्रतिबंधित मांझे का इस्तेमाल निषेधाज्ञा के समय पतंगबाजी पर प्रतिबंध

नही करें प्रतिबंधित मांझे का इस्तेमाल
निषेधाज्ञा के समय पतंगबाजी पर प्रतिबंध
भीलवाड़ा, 13 जनवरी/ जिला मजिस्ट्रेट श्री षिवप्रसाद एम. नकाते ने पर्यावरण संरक्षण अधिनियम, 1986 के प्रावधानों एवं दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत   जिले में पतंगबाजी के लिए अवैध चाईनीज मांझे एवं धातु मिश्रित मांझे पर निषेधाज्ञा लागू की है। आदेष के अनुसार कोई भी व्यक्ति प्लास्टिक अथवा अन्य सिन्थेटिक धागे से बने मांझे,चाईनीज मांझे, हानिकारक जहरीले पदार्थो जैसे लोहा पाऊडर, ग्लास पाऊडर आदि से बने मांझे का निर्माण, भण्डारण, परिवहन, विक्रय एवं  उपयोग नहीं करेगा। इन मांझो के प्रयोग से आमजन के अलावा आकाष में विचरण करने वाले पक्षियों को गंभीर क्षति होती है। निषेधाज्ञा के दौरान प्रातः 6 बजे से 8 बजे तक एवं सांय 5 बजे से 7 बजे तक की अवधि के मध्य पतंग उड़ाया जाना पूर्णतया प्रतिबन्धित रहेगा।
यदि कोई व्यक्ति आदेशो का उल्लंघन करता है तो भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अन्तर्गत अभियोजित किया जा सकेगा। आदेष 31 जनवरी तक जिले की सम्पूर्ण सीमा में प्रभावी रहेगा।

Most Popular