प्रमुख का चुनाव नजदीक आते ही बिछने लगीं कयासों की गोटियां

प्रमुखी का चुनाव नजदीक आते ही बिछने लगीं कयासों की गोटियां

न कम हैं रघुवर न कम कन्हैय्या कहीं गुल न खिला दे बी जे पी का अंतरद्वंद

आशीष त्रिपाठी/अश्वनी त्रिपाठी

रेउसा सीतापुर
जैसे-जैसे ब्लाक प्रमुख पद का चुनाव नजदीक आता जा रहा है वैसे वैसे राजनैतिक धमाचौकड़ी बढ़ने लगी है। कुल 142 क्षेत्र पंचायत सदस्य रेउसा ब्लॉक में है। प्रमुख पद पर अभी तक 2 महिलाओं के नाम सामने आये हैं और दोनों महिला प्रत्याशी सभी बीडीसी सदस्यों को गोलबंद करने में जी-जान से मेहनत कर रही हैं। सबसे दिलचस्प यह है कि दोनों महिला प्रत्याशी सत्ता पक्ष भाजपा से ही हैं।
सूत्रों का कहना है कि क्षेत्र पंचायत संख्या 94 कोड़री सेकंड से निर्वाचित क्षेत्र पंचायत सदस्य श्रीमती अनीता देवी मौर्या पत्नी राजनंदन उर्फ बबलू मौर्य पूर्व ब्लाक प्रमुख चन्द्र कुमार मिश्र की सरपरस्ती में प्रमुख पद की उम्मीदवार बनकर प्रमुख पद पर आसीन होने का सपना संजोए हैं वहीं पर श्रीमती मंजू देवी पत्नी अवधेश चौहान निवासी मानपुर इटिया वर्तमान विधायक ज्ञान तिवारी की सरपरस्ती में अपना टिकट भाजपा से पक्का मानकर क्षेत्र पंचायत सदस्यों को अपने पक्ष में करने की फितरत में लगी हुई हैं। दोनों महिला प्रत्याशी सत्ता पक्ष भाजपा से टिकट की दावेदार बताई जा रही हैं परंतु भाजपा किसे अपना उम्मीदवार बनायेगी यह अभी भविष्य के गर्भ में है। दोनों प्रत्याशी रात दिन एक कर के क्षेत्र पंचायत सदस्यों को अपने अपने पाले में करने के लिए कोई कसर भी नहीं छोड़ रही हैं।
कहा जाता है कि वर्तमान विधायक ज्ञान तिवारी कि यदि चलेगी तो मंजू देवी को भाजपा अपना प्रत्याशी बनाएगी और यदि पलड़ा कहीं संगठन मैं चन्द्र कुमार मिश्र “बापू” का भारी पड़ा तो श्रीमती अनीता देवी मौर्या को भाजपा अपना प्रमुख पद का प्रत्याशी बना सकती है। चाय की दुकानों पर दोनों प्रत्याशियों को लेकर चर्चाएं जोरों पर हैं परन्तु भाजपा के जिला संगठन की तरफ से अभी कोई भी घोषणा नहीं हो सकी है दबी जुबान से लोगों को वर्तमान सांसद की भी भूमिका की चर्चा करते हुए सुना जा रहा है कि देखो सांसद श्री राजेश वर्मा किस को टिकट दिलाने की भूमिका अदा करते हैं।
चर्चा में तो यहां तक है कि सांसद जी जिसे तरजीह देंगे प्रमुख पद का वही प्रत्याशी भाजपा से होगा।श्रीमती मंजू देवी चौहान के ससुर बालेश्वर चौहान अभी तक विगत विधानसभा चुनाव तक बहुजन समाज पार्टी के चौहान बिरादरी के भाईचारा समिति के विधानसभा अध्यक्ष भी रहे हैं परंतु अनीता देवी मौर्या पहली बार राजनीति में आई हैं और उन्हें चन्द्र कुमार मिश्र बापू का बरदहस्त प्राप्त होने के कारण लोगों को क्षेत्र पंचायत सदस्यों के मध्य पलड़ा भारी लग रहा है। वैसे तो पूरा चुनाव ही भविष्य के गर्भ में है जब तक भाजपा अपने उम्मीदवार की घोषणा नहीं करती है।
वैसे तो चन्द्र कुमार मिश्र “बापू” में सिर्फ बापू की सक्रियता अनीता देवी मौर्य के लिए वरदान दिखती है परंतु जब तक सत्तापक्ष प्रत्याशी की घोषणा नहीं करती है तब तक केवल अटकलें ही लगती रहेंगी क्योंकि प्रमुख पद पर ज्यादातर सत्तापक्ष के ही उम्मीदवार सफल हुए हैं। पूरा चुनाव सत्ता पक्ष का माना जाता है लेकिन रेउसा में प्रमुख पद की उम्मीदवार श्रीमती अनीता देवी मौर्या का पलड़ा भारी पड़ रहा है लोगों के अनुसार उनके पास 142 सदस्यों में से 105 बीडीसी सदस्य अनीता देवी मौर्या के पक्ष में दिख रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here