रेलवे ने यात्री सुविधाओं में कटौती का किया एलान, लगाई इन चीजों पर रोक

नई दिल्ली। ट्रेनों में हो रही आगजनी जैसी घटनाओं को देखते हुए भारतीय रेल ने हाल ही में एक बड़ा फैसला लेते हुए एलान किया है कि अब कोई भी यात्री किसी तरह का स्‍मोकिंग और ज्‍वलनशील पदार्थ ट्रेनों के अंदर नही ले जा पाएगा। रेल्वे ने इन चीजों पर कड़ाई से रोक लगाते हुए कहा है कि ट्रेन में सफर कर रहे यात्रियों की सुरक्षा उनकी पहली प्राथमिकता है। और इसी लिहाज से यात्रियों का सफर आरामदायक होने के साथ सुरक्षित बने, इसके लिए यह अभियान शुरू किया गया है।

जानकारी के मुताबिक यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रेलवे ने एक नया निर्देश जारी किया है, जिसके मुताबिक मोबाइल और लैपटॉप के लिए बिजली की सप्लाई रात 11 बजे से सुबह 5 बजे तक बंद करदी जाएगी। इसके लिए ट्रेन के सभी कोचों से चार्जर प्वाइंट को जोड़ने वाले सभी स्विच एक साथ बंद कर दिए जाएंगे। इसके पीछे एक नही बल्कि कई वजहें हैं एक तो यात्री मोबाइल को चार्जिंग पर लगाकर बेपरवाह सो जाते हैं जिससे ओवर चार्जिंग होने से मोबाइल के ब्‍लास्‍ट होने का खतरा होता है। इसके साथ ही इन कीमती चीजों की चोरी का भी खतरा ज्यादा रहता है।

रेलवे प्रशासन का मानना है कि बिजली के खराब या डैमेज तारों के चलते रात में बिजली की सप्लाई से आग लगने की घटनाएं ज्यादा होती है। अब प्रशासन ने ट्रेनों में लूटपाट और आग की घटनाओं को रोकने के लिए रात के वक्त मोबाइल को चार्ज करने के लिए बिजली की सप्लाई को बंद करने का निर्देश जारी किया है।

जानकारी के अनुसार भारतीय रेल ने इन नए नियमों को लागू कर दिया है। पूर्व मध्य रेल, हाजीपुर के अधीन संचालित की जाने वाली सभी स्पेशल एक्सप्रेस ट्रेनों के चार्जिंग प्‍वाइंट को रात 11 बजे के बाद से बंद रखने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है।