previous arrow
next arrow
Slider
Home भीलवाड़ा सर्वांगीण शिक्षा से बनता हैं उन्नत जीवन :- मुकुल मुनि

सर्वांगीण शिक्षा से बनता हैं उन्नत जीवन :- मुकुल मुनि

पीथास राजकीय विद्यालय में मुकुल मुनि ने विद्यार्थियों को बताया शिक्षा प्रकाश स्तम्भ की तरह होती हैं ।

बागोर :- विष्णु विवेक शर्मा l सर्वांगीण शिक्षा से छात्र छात्राओं का बनता हैं उन्नत जीवन और ये शिक्षा एक छात्र के जीवन में प्रकाश स्तम्भ की तरह होती हैं जो की छात्र को सकारात्मक सोच के साथ ही एक नए आयाम के साथ साथ मुकाम भी देती हैं ऊक्त विचार जैन तेरापंथ सभा के जैन मुनि मुकुल कुमार ने बागोर के निकटवर्ती ग्राम पीथास स्थित राजकीय विद्यालय में सोमवार को स्कूली छात्र छात्राओं को शिक्षा का पाठ पढ़ाते हुए शिक्षा का मौलिक जीवन में क्या महत्व होता हैं इसका भी बिंदुवार वर्णन कर विस्तारपूर्वक समझाते हुए कहे ।
पीथास में स्कूली छात्रों को सम्बोधित करते हुए मुनि मुकुल कुमार ने कहा कि शिक्षा इंसान के जीवन में प्रकाश स्तम्भ की तरंह हैैं जो एक विद्यार्थी को नई दिशा प्रदान करतीं हैं यदि हमे अपनें जीवन मे आगे बढ़ कर सफलता प्राप्त करनी हैैं तो हमे पूर्ण मनोयोग से अध्ययन करना होगा ।
मुनि मुकुल कुमार ने छात्रों को शिक्षा का पाठ पढ़ाते हुए कहां की वर्तमान में टीचिंग का क्रम तो चल रहा हैं किन्तु ट्रेनिंग का हिस्सा बहुत कमजोर हैं ।
जबकि शिक्षा के माध्यम से सतत आरोहण विकास के सौंपान पर
एक ट्रेनर का होना चाहिए । मुनि ने
स्कूली छात्र छात्राओं को शिक्षा कैसे बने उपयोगी इस विषय में कई बिंदुओं पर विस्तारपूर्वक प्रेरणादायक वक्तव्य दिया।
मुनि ने शिक्षा की महत्ता को बताते हुए पुनः कहा कि शिक्षा प्रकाश स्तंभ की तरह हैं जो विद्यार्थी को नई दिशा प्रदान करती हैं यदि जीवन में सफलता के सौंपान पर आरोहण करना हैं तो सर्वांगीण शिक्षा को प्राप्त करना ही होगा। इसके लिए ऐसी शिक्षा अर्जित करनी होगी जिसमें टीचिंग के साथ ट्रेनिंग भी हो मगर वर्तमानिक शिक्षा पद्धति में ट्रेनिंग का अभाव हैं जिसके चलते व्यक्ति का संपूर्ण विकास नहीं हो पा रहा हैं । और अधूरी शिक्षा प्रणाली से हमको सही मार्गदर्शन नहीं मिल पा रहा, बौद्धिक विकास भले ही हो रहा हो पर मानसिक एवं भावनात्मक विकास अभी भी अवरूद्ध ही हैं। ऐसे में आज जरूरत हैं एक ऐसे अध्ययन की जो जीवन को परिष्कृत करके विद्यार्थियों में नई सोच, नई दिशा, नया आलोक प्रदान करें ताकि विद्यार्थी के जीवन को एक नया आयाम और नई ऊंचाईयां मिल सके।
इस दौरान राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय पीथास के प्रधानाचार्य नानूराम ने मुनि मुकुल कुमार का आभार व्यक्त किया वही दलपत गेलडा ने मुनि का परिचय दिया साथ ही रतन लाल काल्या ने विद्यालय परिवार का आभार भी जताया ।
शिक्षा के इस पाठ समारौह में रोशनलाल काल्या, राजमल काल्या, शांति लाल काल्या, बाबुलाल, प्रकाश कोठारी, पवन काल्या सहित विद्यालय का स्टॉफ एवं स्कूली छात्र छात्राएं उपस्थित रहे ।

-157 वां मर्यादा महोत्सव 18 को ।
मुनि कुलदीप कुमार व मुनि मुकुल कुमार के सानिध्य में आगामी 18 फरवरी को पीथास में 157वां मर्यादा महोत्सव का भव्य कार्यक्रम प्रातः 9बजे से आयोजित होगा। जिसके मुख्य आकर्षण बिंदु “कैसे हुआ मर्यादा का निर्माण”, “आज कितनी प्रासंगिक हैं मर्यादाएं”, “श्रीमद् जयाचार्य की पराविद्या का रहस्य” आदि विषयों पर रोचक जानकारीयां भी मुनि द्वारा प्रदान की जाएगी ।

Most Popular