Homeराजस्थानकोटा-बूंदीमहेश नवमी महोत्सव में दिखाई श्रृद्धा एवं एकता,,, नमःशिवाय,नम:शिवाय,हर बोल नम: शिवाए

महेश नवमी महोत्सव में दिखाई श्रृद्धा एवं एकता,,, नमःशिवाय,नम:शिवाय,हर बोल नम: शिवाए

श्री माहेश्वरी समाज द्वारा महेश नवमी महोत्सव में दिखाई श्रृद्धा एवं एकता
नम:शिवाए ओम नम:शिवाए हर बोल नम: शिवाए
माहेश्वरी बंधुओं ने हर्षोउल्लास से मनाया 7 दिवसीय महोत्सव
शोभायात्रा में सजीव झाकियों ने मन मोहा,भोले नाथ के लगे जयकारें

महाशिवाभिषेक में सापत्निक जुटा माहेश्वरी समाज,201 शिवलिंग का सामूहिक किया अभिषेक

सेवा और कल्याण के मार्ग पर अग्रणी है माहेश्वरी समाजः बिरला
त्याग तप और सेवा का चरित्र है माहेश्वरी समाज -लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला

महेश नवमी पर सशक्त हुआ सेवा, त्याग और सदाचार का संकल्प — उपसभापति राजेश कृष्ण बिरला

कोटा। स्मार्ट हलचल/श्री माहेश्वरी समाज कोटा के तत्वाधान में आयोजित महेश नवमी हर्षोल्लास से आयोजित की गई। अखिल भारतवर्षीय माहेश्वरी महासभा (पश्चिमांचल) के उपसभापति राजेश कृष्ण बिरला ने बताया कि प्रात:8.15 पर भगवान शिव का सामूहिक रूद्र महाभिषेक झालावाड़ रोड स्थित श्री माहेश्वरी भवन में आयोजित किया गया। सांय 7.15 पर भव्य शोभायात्रा को माननीय ओम कृष्ण बिरला अध्यक्ष लोकसभा ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। भगवान शिव का पूजन अर्चन किया।

ग्लोबल पब्लिक इंद्रा विहार से प्रारंभ होकर श्रीनाथपुरम स्थित माहेश्वरी पब्लिक स्कूल पहुंची जहां वह विराट सभा परिवर्तित हो गई। सभा में समाज भामाशाह व प्रबुद्ध जनो का सम्मान समारोह आयोजित किया गया। समारोह में मुख्य अतिथि लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला रहें।
अंत में हजारों माहेश्वरी बंधुओं ने एकसाथ महाप्रसादी ग्रहण की।
7 दिवसीय कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए कोर कमेटी सदस्य समाज मंत्री बिट्ठल दास मूंदडा,मुख्य समन्वयक महेश अजमेरा,कोषाध्यक्ष राजेन्द्र शारदा,उपाध्यक्ष नंद किशोर काल्या,सह मंत्री धनश्याम,सुरेश काबरा,प्रमोद कुमार भण्डारी, के जी माहेश्वरी,भगवान बिरला, मूंदडा,ओम प्रकाश गट्टानी,रामचरण धूत,राजेश माहेश्वरी,अविनाश अजमेरा,बृजगोपाल भरडिया,प्रीति राठी,सरिता मोहता,दामोदर मूंदडा,सत्यनारायण चाण्डक सहित कई माहेश्वरी समाज के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं की अहम भूमिका रही।

201 शिवलिंग का सामूहिक अभिषेक
महेश नवमी पर माहेश्वरी समाज ने एकजुट होकर सापत्निक महाशिवाभिषेक झालावाड़ रोड स्थित माहेश्वरी भवन पर विधि विधान से प्रात: 8.15 बजे मनाया गया। माहेश्वरी बंधुओ ने सापत्निक 201 शिवलिंग का महाशिवाभिषेक झालावाड़ रोड स्थित माहेश्वरी भवन पर विधि विधान से प्रात: 8.15 बजे किया। समन्वयक राजेश माहेश्वरी ने बताया कि महाभिषेक कार्यक्रम के मुख्य प्रायोजक राजेश कृष्ण बिरला,हरिकृष्ण बिरला,रामकृष्ण बिरला व दयाकृष्ण बिरला सहित समस्त बिरला परिवार रहा। मुख्य समन्वयक महेश चंद अजमेर ने बताया कि श्री माहेश्वरी समाज ने 201 एक शिवलिंग का सामूहिक सपत्निक महाशिवाभिषेक विभिन्न प्रकार के पूजा सामग्री, धूप, दीप, फूल, अर्चना आदि के साथ पूजा की। अभिषेक के दौरान शिव भक्त भगवान शिव के नामों का जाप करते रहे और उन्हें बिल्वपत्र,धूप, दीप, फूल, नैवेद्य, तांबे के कलश धातू, दूध, घी, दही, शहद, जल, रसना आदि से स्नान कराया। इसके बाद विभिन्न विधियों से पूजा आराधना की जाती है और मंत्रों का जाप किया जाता है। विद्वान विप्र 11 पंडितों की द्वारा सामूहिक मंत्रोचारण से किया गया। इसी के साथ शहर के विभिन्न मंदिरों में महाभिषेक किया। श्री चारभुजा मंदिर, सती चबूतरा पाटनपोल,नीलकंठ महादेव मंदर टिपटा,गोविंद देव जी मंदिर गढ पैलेस पर पूजन व अभिषेक हुआ। सभी ने शिवलिंग में प्राण—प्रतिष्ठा कर रुद्राभिषेक व उत्तर पूजन पूर्ण किया।इसके उपरांत एक साथ महाआरती कर पूरे परिसर को भक्तिमय माहौल में भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त किया।

शोभायात्रा में उमड़े माहेश्वरी बंधु
समन्वयक कृष्ण गोपाल जाखेटिया व प्रमोद कुमार भण्डारी ने बताया कि लोकसभा अध्यक्ष ओमकृष्ण बिरला के हरी झण्डी दिखाते ही हजारों माहेश्वरी बंधु एकजुट होकर भगवान भोले नाथ के जयकारे लगाते हुए भव्य शोभायात्रा में लिए चल दिए। विधायक संदीप शर्मा व भाजपा जिला अध्यक्ष राकेश,ओम माहेश्वरी,गोविंद माहेश्वरी जैन भी शोभायात्रा से जुड़े।
सर्वप्रथम जय महेश की पताका लेकर समाजबंधु आगे चले जिनके पीछे घुड़सवार,शहनाई वादक आगे बढ़ते रहे। शोभायात्रा मार्ग में आगे—आगे भगवान शिव की सुंदर झांकी, राधाकृष्ण, शिव परिवार,भगवान हनुमान वानर टोली के साथ,वरहा अवतार, राम दरबार ,वृहद शिवलिंग शोभयात्रा में आकर्षण का केन्द्र बिन्दु रहा। वहीं भगवान गणेश,पार्वती और शिव दरबार की सजीव झांकी सभी का मन मोह रही थी।शोभायात्रा में जहां भी शिवलिंग निकलता वहां विधिवत पूजन भी लोग करते नजर आए,लोगो ने दूध व जल से शिव अभिषेक किया तो कई बिलपत्र,फल—फूल चढाते रहे। शोभयात्रा में बैण्डबाजे,शहनाई एवं ढोल नगाडो के साथ माहेश्वरी समाज के लोग जय महेश के नारों से शोभायात्रा को उत्साहित करते दिखे। गोविंद माहेश्वरी ने भगवान शिव की रसधारा जैसे प्रारंभ की माहेश्वरी बंधु एक सुर में भगवान महेश के यशोगान गाते चलने लगे।

गोविंद माहेश्वरी ने बांध समां
नम:शिवाए ओम नम:शिवाए हर बोल नम: शिवाए,बम—बम शिव का डमरू बाजे रे..मेरी लगी श्याम संग प्रीत, कीर्तन की है रात आदि भजनों ने शोभायात्रा मे गोविंद माहेश्वरी ने माहेश्वरी बंधुओं को बंधा रखा। गोविंद माहेश्वरी के भजनो की धुनों पर नाचते और महादेव के जयकारों के शोभायात्रा में बढते चले गए। शोभायात्रा के प्रमुख सहयोगकर्ता एलन मानधना परिवार व ओम माहेश्वरी,प्रमोद,नवल सहित समस्त केरियर पांईंट तथा खुवाल परिवार रहा।
महेश चंद्र अजमेरा ने बताया कि शोभा यात्रा मे सभी माहेश्वरी बंधु पारम्परिक परिवेश पुरुष वर्ग- सफेद कुर्ता-पायजामा तथा महिला वर्ग केसरिया / पीली साडी पहनकर कर सम्मिलित हुई। शोभा यात्रा में सामाजिक, धार्मिक झांकियां, बैंड बाजे, शहनाई नगाड़ा ढोल, 21 पंडितों द्वारा मंत्र उच्चारण, एवं गिरिराज मित्र मंडल के प्रमुख भजन गायक गोविंद माहेश्वरी (मानधना) के साथ धार्मिक भजनों की बयार बहाई। 31 स्वागत गेट शोभा मार्ग में लगाए गए।

यह रहा शोभा यात्रा मार्ग
महेश चंद अजमेरा ने बताया कि भव्य शोभायात्रा जवाहर नगर थाना,सेन्ट्रल पब्लिक स्कूल,खण्डेलवाल नर्सिंग होम,महावीर नगर तृतीय,मीरा मार्केट,हनुमान मंदिर,शिव ज्योति कान्वेंट स्कूल होती हुई माहेश्वरी पब्लिक स्कूल श्रीनाथपुरम पहुची।
माहेश्वरी समाज उपाध्यक्ष नन्द किशोर काल्या व मंत्री विठ्ठल दास मून्दडा ने बताया कि भव्य शोभा यात्रा का पूरे मार्ग में सर्व समाज, व्यापारिक संगठन, सामाजिक संगठनों, राजनैतिक प्रतिनिधियो, माहेश्वरी परिवारो द्वारा पुष्प वर्षा , शीतल पेय पदार्थ से भव्य स्वागत किया। शोभायात्रा मार्ग में सड़क को नीले,गुलाबी व सफेर रंग की रंगोली से रेखा बना कर प्रदर्शित किया गया।

एकता का परिचायक है महेश नवमी पर्व
समन्वयक राजेन्द्र शारदा ने बताया कि श्रीनाथपुरम स्थित माहेश्वरी पब्लिक स्कूल में सम्मान समारोह मुख्य अतिथि ओमकृष्ण बिरला ने समाज के 251 श्रेष्ठी,प्रतिभाओं एवं भामाशाहों को मंच पर सम्मानित किया। अपने उद्बोधन में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने महेश नवमी की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इस पर्व का महत्व एकता और विश्वास को प्रकट करने में है। माहेश्वरी समाज के लोग देश विदेश में नाम कमा रहे है। सेवा समर्पण और त्याग माहेश्वरी समाज का चरित्र है ।
यह पर्व सामाजिक और धार्मिक एकता को प्रोत्साहित करता है और लोगों को एकजुट होने के लिए प्रेरित करता है। इसके अलावा, यह पर्व धार्मिक उत्सव के रूप में लोगों को भगवान शिव के प्रति अपनी श्रद्धा और विश्वास का अभिव्यक्ति करने का एक अवसर प्रदान करता है। महेश नवमी पर्व का आयोजन भारतीय संस्कृति और परंपरा का महत्वपूर्ण हिस्सा है जो लोगों को अपने आपसी बंधनों को मजबूत करने और एकता को समझने का अवसर प्रदान करता है।

त्याग और सदाचार का संकल्प
अखिल भारतवर्षीय माहेश्वरी महासभा के पश्चिमांचल के उपसभापति राजेश कृष्ण बिरला ने अपने उद्बोधन में कहा कि महेश नवमी का पर्व समाज में सद्भाव, शांति और एकता के बंधन को मजबूत करने की राह दिखाता है। यह पर्व हमें भगवान शिव के विराट व्यक्तित्व का अनुसरण करने की सीख देता है। श्री माहेश्वर समाज सदैव जनसेवा की मिसाल पेश करता है। महोत्सव के मुख्य समन्वयक महेशचंद अजमेरा ने कहा कि महोत्सव में जनहित,जनप्रेरणा,जनसेवा के कार्यो सहित युवा महिलाओं के लिए खेलकूद व सांस्कृतिक कार्यक्रम और महादेव भगवान शिव के पूजन—अर्चन के विस्तृत कार्यो की श्रृखंला महोत्सव में देखने को मिली।

प्लास्टिक डिस्पोजल फ्री महाप्रसाद
समन्वयक हरिकृष्ण बिरला व अनिल डागा ने बताया ने बताया कि हर वर्ष की भांति इस बार भी महाप्रसादी का आयोजन डिस्पोजल फ्री रहा। सांय 9.15 बजे हजारों की संख्या में माहेश्वरी बंधु महाप्रसाद ग्रहण किया। उन्होने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के प्रति समाज चिंतित रहता है। पर्यावरण को स्वच्छ बनाने के लिए यह प्रयास किया गया है। इस अवसर प्लास्टिक डिस्पोजल फ्री कार्यक्रम रहा।
उन्होने कहा कि इस महाप्रसादी में कोई वेटर भी नहीं था समाज के लोगो को समाज के लोगो ने ही भोजन करवाया। इसके लिए माहेश्वरी ”पहले करे परोसगारी,फिर ले अपनी बारी”का पालन करते हुए महेश कुम्भ में परोसगारी की। नारायण स्वरूप—कमला देवी व विष्णु साबू व बजरंग साबू परिवार कार्यक्रम के मुख्य प्रायोजक रहें।

RELATED ARTICLES